मुख्यमंत्री निवास पर हुई सर्वदलीय बैठक

 मुख्यमंत्री निवास पर हुई सर्वदलीय बैठक


छोटा अखबार।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सभी राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों और प्रदेशवासियों से शांति बनाए रखने में सहयोग करने की अपील की। उन्हाेंंने कहा कि राजस्थान साम्प्रदायिक सौहार्द और शांतिपूर्ण प्रदेश रहा है। यहां की गौरवशाली सांझी परम्परा को कायम रखना हम सभी की अहम जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि उदयपुर की घटना धार्मिक नहीं, बल्कि आतंकी घटना है। अपराधियों के तार गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त अंतर्राष्ट्रीय संगठनों से मिले है। राज्य सरकार द्वारा बिना विलंब अपराधियों को कठोर सजा दिलाई जाएगी। हम सभी को एकजुट होकर शांतिपूर्वक तरीके से ऎसी घटनाओं की निंदा करनी चाहिए। 


मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोनाकाल में भी सभी दलों ने एक साथ आगे आकर गंभीर हालात से लड़ने के लिए प्रयास किए थे। धर्मगुरूओं, राजनैतिक दलों, विभिन्न समाजसेवी संगठनों के साथ-साथ आमजन ने भी सहयोग किया था। उन्होंने कहा कि आज फिर से हमें उसी तरह एक साथ आगे आकर भय और आतंक फैलाने वाले अपराधियों से लड़ाई लड़नी है। आमजन को अपराधियों तथा धमकियों से ड़रने की जरूरत नहीं है, राज्य सरकार हर स्थिति में उनके साथ खड़ी है। 
श्री गहलोत ने कहा कि राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने मामला दर्ज किया है। जांच में राजस्थान एसओजी और एटीएस पूरा सहयोग करेगी। उन्होंने राजस्थान पुलिस को बधाई देते हुए कहा कि पुलिस टीम ने त्वरित गिरफ्तारी कर उदाहरण पेश किया है। उन्होंने भीम में पुलिसकर्मी के साथ मारपीट की घटना की निंदा की। मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को विश्वास दिलाया कि जिस तरह पोक्सो एक्ट के कई प्रकरणों में त्वरित कार्रवाई कर अपराधियों को सजा दिलाई, उसी तरह उदयपुर सहित अन्य मामलों में भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि मृतक श्री कन्हैयालाल के परिवार के साथ पूरे प्रदेशवासी खड़े है। आश्रित परिवार को 50 लाख रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। 


सर्वदलीय बैठक में पारित प्रस्ताव

उदयपुर के धानमंडी थाना क्षेत्र में हुई श्री कन्हैया लाल साहू की हत्या की कड़े शब्दों में निन्दा करते हैं। यह एक अमानवीय त्य है एवं मानवता पर कलंक के समान है। एक सभ्य समाज में इस तरह के त्यों का कोई स्थान नहीं है। सभी राजनैतिक दल एकराय होकर इस त्य के दोषियों को न्यायसंगत तरीके से कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग करते हैं। सभी राजनैतिक दल प्रदेश की जनता से अपील करते हैं कि शांति एवं सद्भाव बनाये रखें। इस परिस्थिति में संयम से काम लेना ही उचित तरीका है। पूरे मामले की जांच राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) द्वारा की जा रही है एवं राजस्थान पुलिस का आतंकवाद निरोधी दस्ता (एटीएस) एवं स्पेशल अपरेशन ग्रुप (एसओजी) द्वारा एनआईए के साथ समन्वय किया जा रहा है। इस घटना तथा साजिश में शामिल सभी अपराधियों को कठोरतम दंड दिलवाकर पीड़ित परिवार को न्याय दिलवाना सुनिश्चित किया जाएगा। राजस्थान में हमेशा सामाजिक सौहार्द कायम रहा है। यह प्रदेश के सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने का एक प्रयास है। हमारा पूर्ण विश्वास है कि राजस्थान की जनता ऎसे असमाजिक तत्वों के मंसूबों को सफल नहीं होने देगी।

Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार