विवादों का शीघ्र निपटारा स्वस्थ लोकतंत्र की पहचान —मुख्य न्यायाधीश

 विवादों का शीघ्र निपटारा स्वस्थ लोकतंत्र की पहचान —मुख्य न्यायाधीश


छोटा अखबार।

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख उच्च न्यायालय के नए परिसर की शनिवार को आधारशिला रखने गये देश के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एन. वी. रमना ने अफसोस जताते हुए कहा कि भारत में न्याय प्रदान करने का तंत्र बहुत जटिल और महंगा है और देश अदालतों को समावेशी और सुलभ बनाने में बहुत पीछे है। 

उन्होने कहा कि एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए, यह जरूरी है कि लोग महसूस करें कि उनके अधिकार और सम्मान सुरक्षित और मान्यता प्राप्त हैं। विवादों का शीघ्र निपटारा एक स्वस्थ लोकतंत्र की पहचान है। श्री रमना ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि वकील और न्यायाधीश वादियों के लिए अनुकूल माहौल बनाने प्रयास करें। न्यायाधीश रमना ने कहा कि भारत में न्याय वितरण तंत्र बहुत जटिल और महंगा है। देश में अदालतों के पास अधिकारों के अधिनिर्णय और संविधान की आकांक्षाओं को बनाए रखने का संवैधानिक कर्तव्य है।

Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार