प्रदेश के 400 बीएड कालेजों मे प्रवेश पर रोक

 प्रदेश के 400 बीएड कालेजों मे प्रवेश पर रोक 


छोटा अखबार।

एनसीटीई ने 3 मई, 2022 को एक सार्वजनिक सूचना प्रकाशित की थी। सूचना के अनुसार सभी बीएड कॉलेजों को परफॉर्मेंस अप्रेजल रिपोर्ट यानि की पीएआर भरना जरूरी था। लेकिन प्रदेश के करीब 400  बीएड कॉलेजों ने पीएआर नहीं भरी। इस कारण ऐसे कॉलेजों को सत्र 2022-23 में विद्यार्थी आवंटित नहीं किए जाने और शून्य सत्र कहने की बात कही थी। उपरोक्त सार्वजनिक सूचना में यह भी प्रकाशित था कि इसके बाद भी (पीएआर नहीं भरी)  सुधार नहीं किया गया तो बीएड कॉलेजों की मान्यता समाप्त करने तक की कार्रवाई की जा सकती है। 

वहीं एनसीटीई के इस आदेश के खिलाफ बीएड कॉलेजों के संचालक सर्वोच्च न्यायालय तक गए लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने यह कहते हुए उनकी याचिका खारिज कर दी थी कि शिक्षक शिक्षा की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं किया जा सकता। इस कारण प्रदेश के करीब 400 निजी कॉलेजों में आगामी शैक्षणिक सत्र मैं विद्यार्थी आवंटित नहीं किए जाने और 0 सत्र कर देने से इन बीएड कॉलेजों में पीटीईटी 2022 के विद्यार्थी भी आवंटित नहीं होने की आशंका है।

आपको बतादें कि पीएआर बीएड कॉलेजों का एक ऐसा पक्का चिट्ठा है, जिसमें कॉलेज के मानवीय और भौतिक संसाधन, वेबसाइट, गूगल डिस्प्ले, योग्यताधारी स्टाफ के दस्तावेज का सचित्र विवरण उपलब्ध होता है।


Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक