अन्य आरक्षित श्रेणियों की तरह ईडब्ल्यूएस श्रेणी को भी 5 प्रतिशत की छूट दें सरकार —महेश शर्मा

 अन्य आरक्षित श्रेणियों की तरह ईडब्ल्यूएस श्रेणी को भी 5 प्रतिशत की छूट दें सरकार —महेश शर्मा 


छोटा अखबार।

राजस्थान विप्र कल्याण बोर्ड अध्यक्ष महेश शर्मा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र भेजकर पीटीईटी परीक्षा 2022 सहित आगे होने वाली अन्य समस्त प्रवेश परीक्षाओं/प्रतियोगी परीक्षाओं में ई.डब्ल्यू.एस. आरक्षित श्रेणी के अभ्यार्थियों को भी अन्य आरक्षित वर्गो की तरह ही न्यनूतम अंकों में 5 प्रतिशत की छूट दिये जाने की मांग की है।

शर्मा ने पत्र में कहा कि जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय, जोधपुर द्वारा आयोजित होने वाली पीटीईटी परीक्षा, 2022 में शामिल होने के लिए स्नातक और स्नोकात्तर परीक्षा में सामान्य वर्ग और आर्थिक पिछडा वर्ग (ई.डब्ल्यू.एस.) दोनों वर्गो के लिए न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक अनिवार्य किये गये हैं, जबकि अन्य आरक्षित श्रेणियों एससी, एसटी, एमबीसी और ओबीसी में न्यूनतम अंक में 5 प्रतिशत की छूट देकर न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक निर्धारित किये गये हैं। उन्होंने कहा कि आर्थिक पिछडा वर्ग के अन्तर्गत पात्र अभ्यार्थियों के लिए भी इसी प्रकार न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक अनिवार्य किया जाना न्यायोचित होगा। श्री शर्मा ने कहा कि न्यूनतम अनिवार्य अंक अनारक्षित वर्ग के अभ्यार्थियों के समान 50 प्रतिशत किये जाने के कारण आर्थिक पिछडा वर्ग के लाखों अभ्यार्थियों को आरक्षण का उचित लाभ प्राप्त नहीं हो पा रहा है। इस लिये पीटीईटी परीक्षा 2022 सहित आगे होने वाली अन्य समस्त प्रवेश परीक्षाओं/प्रतियोगी परीक्षाओं में ईडब्ल्यूएस आरक्षित श्रेणी के अभ्यार्थियों को भी न्यनूतम अंकों में 5 प्रतिशत की छूट दी जाये।


Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक