सेना भर्ती रैलियां नहीं होने से टूट रहा युवाओं का सपना —मुख्यमंत्री

 सेना भर्ती रैलियां नहीं होने से टूट रहा युवाओं का सपना —मुख्यमंत्री 


छोटा अखबार।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में सेना भर्ती रैलियों के शीघ्र आयोजन के लिए केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा है। गहलोत ने पत्र में कहा है कि कोविड-19 महामारी के कारण सेना में भर्ती के लिए विगत करीब 2 वर्ष से रैलियों का नियमित आयोजन नहीं किया जा सका है। इसके चलते हजारों नवयुवक भर्ती के लिए निर्धारित अधिकतम आयु सीमा से अधिक उम्र के हो गए हैं और सशस्त्र सेनाओं में भर्ती का उनका सपना टूट रहा है। मुख्यमंत्री ने भर्ती रैलियों में इन अभ्यर्थियों को अधिकतम आयु सीमा में 2 वर्ष की छूट देने का भी केन्द्रीय रक्षा मंत्री से आग्रह किया है। 

श्री गहलोत ने पत्र में कहा कि राज्य में वर्तमान में कोविड महामारी के कारण भर्ती रैलियां नहीं हो रही हैं। वर्ष 2021 में उदयपुर, जयपुर और अजमेर में तीन भर्ती रैलियां जरूर हुई थीं, लेकिन उनकी लिखित परीक्षा अभी तक आयोजित नहीं की जा सकी हैं। श्री गहलोत ने प्राप्त आंकड़ों का पत्र में उल्लेख करते हुए कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर सेना में भर्ती के लिए वर्ष 2015-16 में 127, वर्ष 2016-17 में 102, वर्ष 2017-18 में 106, वर्ष 2018-19 एवं 2019-20 में 92-92 रैलियां आयोजित की गईं, लेकिन बीते करीब 2 वर्षों से इनका नियमित आयोजन नहीं होने से हजारों नवयुवक निर्धारित अधिकतम आयु सीमा से अधिक उम्र के हो गए हैं।

मुख्यमंत्री ने श्री राजनाथ सिंह से आग्रह किया है कि वे भर्ती रैलियों के शीघ्र आयोजन और अभ्यर्थियों को अधिकतम आयु सीमा में 2 वर्ष की छूट का प्रावधान करने के लिए भर्ती निदेशालय (सेना मुख्यालय) को निर्देश दें, ताकि सशस्त्र सेनाओं में नियुक्त होकर राष्ट्र सेवा करने का प्रदेश के नवयुवकों का सपना साकार हो सके।


Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक