विधान सभा सत्र आहूत के लिये राज्यपाल हुए राजी

विधान सभा सत्र आहूत के लिये राज्यपाल हुए राजी


छोटा अखबार।
राजस्थान में चार दिन चले गतिरोध के बाद राज्यपाल कलराज मिश्र ने सोमवार को राज्य कैबिनेट की विधान सभा सत्र बुलाने की मांग मान ली है।



वहीं राज्यपाल ने ज़ोर दिया है कि सरकार सत्र बुलाने के लिए 21 दिन का "स्पष्ट नोटिस" दे और लिखित में भी दे कि एजेंडे में बुहमत साबित करने के लिए विश्वास मत कराना शामिल होगा।


राज भवन सूत्रों के अनुसार मिश्र ने कहा कि मीडिया में सरकार के बयान से यह साफ़ है कि वो सत्र में विश्वास प्रस्ताव लाना चाहती है। लेकिन कैबिनेट की सलाह में इसका कोई ज़िक्र नहीं है। राज्यपाल का कहना है कि ये अल्पावधि में सत्र बुलाने का आधार बन सकता है।


दुसरी ओर राज्यपाल ने 31 जुलाई को सत्र बुलाने की मांग करने वाले कैबिनेट नोट को वापस भेज दिया है। उन्होन कहा है कि इसे दोबारा भेजा जाए। राज्यपाल ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि राजभवन की विधानसभा सत्र न बुलाने की कतई मंशा नहीं है। राज भवन केवल ये चाहता है कि विधानसभा सत्र संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार आहूत हो।



Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार