जम्मू कश्मीर में 72 साल पुरानी परंपरा टूटी, नहीं मना शहीद दिवस

जम्मू कश्मीर में 72 साल पुरानी परंपरा टूटी, नहीं मना शहीद दिवस


छोटा अखबार।
जम्मू कश्मीर में 13 जुलाई को धूमधाम से मनाए जाने वाला कार्यक्रम शहीद दिवस नहीं मनाया गया। यह कार्यक्रम डोगरा शासक महाराज हरिसिंह के सैनिकों की गोलीबारी में मारे जाने वालों की याद में हर वर्ष मनाया जाता है। सूत्रों के अनुसार जम्मू कश्मीर में राजपत्रित अवकाश से 13 जुलाई को हटा दिए गया है। 



बता दे कि पिछले वर्ष पांच अगस्त 2019 को केंद्र ने धारा 370 के ज्यादातर प्रावधानों को निरस्त कर दिये थे। शहीद दिवस मनाने और सरकारी छुट्टी का प्रावधान नेशनल कॉन्फ्रेंस के संस्थापक शेख मोहम्मद अब्दुल्ला ने 13 जुलाई 1948 में किया था।


 


Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार