मेरी प्राथमिकता अर्थव्यवस्था है, मरते हुए लोग नहीं —ब्राज़ील


मेरी प्राथमिकता अर्थव्यवस्था है, मरते हुए लोग नहीं —ब्राज़ील


छोटा अखबार।
एक तरफ़ दुनिया कोरोना वायरस महामारी से जूझ रही है तो वहीं दूसरी ओर ब्राज़ील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो इस महामारी को हल्के में ले रहे हैं। कुछ दिनों पहले ही उन्होंने साफ़ कहा था कि उनकी प्राथमिकता अर्थव्यवस्था है, मरते हुए लोग नहीं।
कहा था कि लोग तो मरेंगे ही। आई एम सॉरी। लेकिन हम एक्सिडेंट होने पर कार फ़ैक्ट्री तो बंद नहीं कर सकते।



यही हाल बेलारूस का है। यहां के राष्ट्रपति एलेक्ज़ेंडर लुकेशेंका से जब पत्रकरों द्वारा पूछा गया कि वो अपने देश कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने की कोशिश क्यों नहीं कर रहे हैं, तो उन्होंने हंसते हुए यही जवाब दिया और कहा कि यहां कोई वायरस नहीं है। आपने उन्हें उड़ते हुए नहीं देखा, है ना? मैंने भी नहीं देखा। देखिए यहां बर्फ है। ये वायरस का मारने का सबसे अच्छा तरीका है। आइस हॉकी के एक मैच के दौरान टीवी रिपोर्टर ने जब लुकेशेंका से पूछा कि वो मैच स्थगित क्यों नहीं कर रहे हैं, तो उन्होंने कहा कि मैच से कोई दिक़्कत नहीं है क्योंकि स्टेडियम की ठंड वायरस को फैलने से रोकेगी। यूरोपीय देशों के उलट बेलारूस ने किसी स्पोर्ट्स टूर्नामेंट को स्थगित नहीं किया है।



दूसरी ओर अमरीका के टास्क फ़ोर्स के प्रमुख सदस्य डॉक्टर एंथनी फ़ॉची ने कहा कि
1,00,000-2,00,000 अमरीकी मर सकते हैं।
समाचार सूत्रों के अनुसार नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ एलर्जी एंड इन्फ़ेक्शियस डिज़ीज़ के डायरेक्टर डॉक्टर एंथनी फ़ॉची ने मीडिया से कहा कि अमरीका के लाखों लोग इससे संक्रमित होंगे और कोरोना वायरस के कारण एक लाख से दो लाख अमरीकी तक मर सकते हैं।


 


Comments

Popular posts from this blog

देश में 10वीं बोर्ड खत्म, अब बोर्ड केवल 12वीं क्‍लास में

आज शाम 7 बजे व्यापारी करेंगे थाली और घंटी बजाकर सरकार का विरोध

रीको में 238 पदों की होगी सीधी भर्ती सरकार के आदेश जारी 

मौलिक अधिकार नहीं है प्रमोशन में आरक्षण — सुप्रीम कोर्ट

10वीं और 12वीं की छात्राओं के लिऐ खुशखबरी, अब नहीं लगेगी फीस

फ़ार्मा कंपनियां डॉक्टरों को रिश्वत में लड़कियां उपलब्ध कराती हैं — प्रधानसेवक

ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं को मिलेगा रोजगार