देश मुश्किल में है — सुनील गावस्कर

देश मुश्किल में है — सुनील गावस्कर
 
छोटा अखबार।
भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर 11 जनवरी को लाल बहादुर शास्त्री के 26वें स्मृति व्याख्यान के दौरान  बोल रहे थे। उन्होने देश के मौजूदा हालातों पर चिंता जताते हुए कहा कि देश मुश्किल में है। हमारे कुछ युवा सड़कों पर उतरे हुए हैं जबकि उन्हें अपनी कक्षाओं में होना चाहिए। सड़कों पर उतरने के कारण उनमें से कुछ को अस्पताल जाना पड़ा।



गावस्कर ने कहा कि हालांकि हम उस भारत में विश्वास रखते हैं जहां के लोग संकट के इस समय से उबर जाएंगे। देशभर में विरोध प्रदर्शन से बने मौजूदा मुश्किल हालात से भारत उबर जाएगा। जैसे अतीत में वह कई संकट की स्थितियों से निपटने में सफल रहा है। हम अपना भविष्य बनाने और भारत को आगे ले जाने का प्रयास कर रहे हैं। एक देश के रूप में हम तभी आगे बढ़ सकते हैं जब हम सभी एकजुट हों। जब हम सभी सामान्य भारतीय होंगे।


 


खेल ने हमें यही सिखाया है। गावस्कर ने कहा कि देश केवल तभी एकजुट रह सकता है। जब हम खुद को सबसे पहले भारतीय समझे। पाकिस्तान के खिलाफ 1965 के युद्ध का उदाहरण देते हुए कहा कि हमारा दिमाग ऐसे ही एक बड़े संकट की तरफ जाता है। जब 1965 में हमारी पड़ोसियों ने हम पर हमला किया था और हम उसका मुंहतोड़ जवाब दिया था।
व्याख्यान के दौरान गावस्कर ने छात्रों से सड़कों की बजाए अपनी कक्षाओं में लौटने की अपील करते हुए कहा कि मैं उन्हें सिर्फ इतना कहूंगा कि अपनी कक्षाओं में लौट जाएं। ये उनका मुख्य कर्तव्य है। वे यूनवर्सिटी पढ़ने गए हैं इसलिए कृपया पढ़े।


Comments